loading-icon

दिल और दिमाक की लड़ाई ... - Poetry | Himanshu Dhiraj Mishra (himstar)

दिल और दिमाक की लड़ाई ... - Poetry | Himanshu Dhiraj Mishra (himstar) | Touchtalent
Title : दिल और दिमाक की लड़ाई ...
Artist Name: Himanshu Dhiraj Mishra (himstar)
Category : Poetry
Creation date : 18 February, 2013
Page Views : 610
Comments : 6
Rating : 2
Description : एक दिन शुरु हो गयी मेरे दिल और दिमाक की लड़ाईमैंने बीच में टांग अड़ाई... पूछा ''क्या हो गया भाई ?''दिल बोला मैं किसी पे आ गया हूँ..मतलब की कोई मुझे भा गया है औरआँखों के रस्ते मुझमे समां गया हैमगर ये दिमाक अब चलने लगा हैमुझे success होते देख जलने लगा है,कहता है इस चक्कर में मत पड़ बड़े खतरे हैंदुनिया से तो डर रास्ते में काटें ही कांटें हैं sandal , गाली और चाटें हैं,टूट जायेगा तो मुझे भी परेशान करेगातुझे दीवाना मुझे पागल कहा जायेगा,मगर मैं नहीं मानता इसकी कोई बातक्यूंकि ये क्या जाने मेरे जज्बात.अब दिमाक गुस्से में आया और इस तरह अपनी बात सुनाया,अच्छा खासा मैं चल रहा था Last Sem. है Score करने की सोच रहा थामगर ये जनाब दिल बीच में आ गए और मुझे खा गए,दिन भर उसके ही ख्वाब दिखाते हैं किताबों की दुनिया से मुझे दूर ले जाते हैं,दिल ने फिर ली अंगड़ाई एक ताने वाली बात ऐसी सुनाई जिसमे थी बड़ी सच्चाई.. बातें तो ऐसी कर रहा है जैसे बड़ा Tailent दिखाया हैइतना ही दम था तो UPTU से B.Tech करने क्यूँ आया है..खुद तो कुछ कर सकता नहीं मैं खुश रहूँ तू ये देख सकता नहीं,उनके झगड़ों से मेरा सर चकराया गुस्से में आकर मैं भी चिल्लाया ..तुम दोनों के बीच एक लड़की की है लड़ाई ये बड़े शर्म की बात है मेरे भाई, बचपन के साथी हो ये क्या करते हो?एक दूसरे का साथ देने की जगह लड़ते हो..उस लड़की को अपना मंजिल बना लो मंजिल बना पाने का रास्ता बना लो, मुश्किलें खुद ही दूर हो जाएँगी जब उसे हर ख़ुशी तुमसे नज़र आयेंगी..तुम मिलकर साथ रहो तो सब कुछ कर जाओगेउसका दिल क्या चीज़ है सारी दुनिया जीत जाओगे. ------ By Himanshu-----